ALL Rajasthan
 जंगल से फिर आई खुशखबरी / मुकुंदरा में बाघिन ने दिया दो शावकों को जन्म, मां के साथ नजर आए नन्हें टाइगर-मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर इस शावकों के जन्म पर खुशी जताई।
June 2, 2020 • Rajkumar Gupta


मुकुंदरा। टाइग्रेस एमटी2 अपने दो शावकों के साथ पहली बार नजर आई। शावक करीब ढाई माह के हैं।

जयपुर. जयपुर। कोरोना काल में छाई मायूसी के बीच मुकुंदरा टाइगर रिजर्व से खुशखबरी आई है। यहां टाइग्रेस एमटी2 ने दो शावकों को जन्म दिया है। बाघिन को अपने दो शावकों के साथ देखा गया है। दोनों शावक करीब ढाई माह के हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंगलवार को ट्वीट कर इस शावकों के जन्म पर खुशी जताई। उन्होंने लिखा है, 2 जून को अच्छी खबर मिली है। मुकुंदरा टाइगर रिजर्व में बाघों की शिफ्टिंग के दो साल बाद एमटी2 ने शावकों को जन्म दिया है। इनका आना हमारे लिए उत्साह जैसा है। हमें मिलकर बाघों का और वन्यजीवों का संरक्षण करना है। उल्लेखनीय है कि इस साल तीसरी बार जंगल से खुशखबरी आई है। इससे पहले दो बार सरिस्का से खुशखबरी मिल चुकी है। 
बाघिन को दो साल पहले मुकुंदरा में शिफ्ट किया गया था।
बाघिन अपने शावकों के साथ।

बाघिन को 2018 में यहां शिफ्ट किया गया था

टाइग्रेस एमटी2 को 18 दिसंबर 2018 को रणथंभौर से यहां शिफ्ट किया गया था। विन विभाग के अनुसार दोनों शावक करीब ढाई महीने के हैं और स्वस्थ हैं। इन्हें करीब 50 मीटर की दूरी से कैमरे में कैद किया गया। इस बाघिन से पहले बाघ एमटी1 को यहां शिफ्ट किया गया था।

सरिस्का से दो बार मिल चुकी गुड न्यूज
उल्लेखनीय है कि गत 26 मई को सरिस्का से खुशखबरी आई थी। सरिस्का में बाघिन (एसटी-12) ने तीन शावकों को जन्म दिया था। जंगल में लगाए गए कैमरों में तीनों शावक अपनी मां के साथ घूमते दिखाई दिए थे। शावकों की उम्र दो महीने से अधिक है। लॉकडाउन में सरिस्का से दूसरी बार वन्यजीव प्रेमियों के लिए अच्छी खबर मिली है। इससे पहले 31 मार्च को बाघिन (एसटी-10) के साथ एक शावक पानी के कुंड में अठखेलियां करते हुए कैमरे ने कैद हुआ था। सरिस्का में अब बाघ-बाघिनों की संख्या 20 हो गई है। इनमें 10 बाघिन, 6 बाघ और 4 शावक हैं।