ALL Rajasthan
 कोरोना पर सरकार / संक्रमण की रफ्तार घटी, अब 10 दिन में केस दोगुने हो रहे; लॉकडाउन सही वक्त पर नहीं होता तो 73 हजार लोग संक्रमित होते
April 24, 2020 • Rajkumar Gupta

नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण को लेकर शुक्रवार को राहत की खबर आई। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि बीते 14 दिन में 80 जिलों में कोई नया केस सामने नहीं आया। वहीं, 15 ऐसे जिले भी हैं जहां पिछले 28 दिनों से संक्रमण का कोई नया मामला नहीं सामने आया है। लॉकडाउन के चलते संक्रमितों की संक्रमण के फैलने की रफ्तार भी कम हुई है। अब हर दस दिन में संक्रमितों की संख्या दोगुनी हो रही है।

अग्रवाल के मुताबिक, लॉकडाउन के पहले हफ्ते में हमारे पास 1251 मामले आए। इसका डबलिंग रेट 5.2 रहा। दूसरे हफ्ते के अंत में 4421 मामले आए। डबलिंग रेट 4.2 रहा। तीसरे हफ्ते में 10,363 मामले आए और डबलिंग रेट 8.6 रहा। लॉकडाउन के बाद से हमार डबलिंग रेट बदल गया। अगर लॉकडाउन जैसे उपायों को लागू करके संक्रमण का रेट नहीं रोकते तो आज हमारे देश में काफी नुकसान होता। आज हमारे यहां 23 हजार मामले हैं, अगर लॉकडाउन लागू नहीं होता तो 73 हजार केस होते। अग्रवाल ने बताया कि संक्रमण से लोगों के ठीक होने की दर यानी रिकवरी रेट 20.57% हुआ है।

हर किसी ने अपना नजरिया बदला है

    अग्रवाल ने कहा कि अब देश के लोगों ने अपना व्यवहार बदला है। हर गांव-कस्बे में लोगों की सोच है कि इस महामारी को हराना है।
    लोगों की भागीदारी हमारी उपलब्धि है। अभी और अंतर आने की उम्मीद है। अपने जीवन को सामान्य रखते हुए इस महामारी से कैसे बचना है, इसकी रणनीति बनाई जा रही है।
    अग्रवाल के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 1684 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इसके साथ देश में कुल संक्रमितों की संख्या 23,077 हो गई।
    बाेले- किसी भी बीमारी की तरह यह भी एक बीमारी है। इससे जुड़ा किसी भी प्रकार का कलंक खत्म किया जाना चाहिए।
    इसके लिए हम लोगों में जागरूकता लाने की हम कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इसे सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों से ही फैलने से रोका जा सकता है। 

देश में 9 लाख 45 हजार लोग सर्विलांस में हैं

अग्रवाल ने कहा कि देश के 734 जिलों, 28 राज्यों और 8 केंद्र शासित प्रदेशों से बीमारी का डेटा जुटा रहे हैं। हम सभी प्रकार के मरीजों की जांच कर रहे हैं। इसके लिए सर्विलांस और रिस्पांस टीम गठित की गई है। आईटी की मदद से रियल टाइम डेटा जुटाने में मदद मिल रही है। कलेक्टरों की मदद से सर्विलांस में मदद मिली है। घर घर जाकर लोगों का सर्वे और सैंपल लिया जा रहा है। अगर कोई संक्रमित मिलता है तो उसे समुचित इलाज दिया जाता है। हमने जिला स्तर से राज्य और केंद्र तक सर्विलांस सिस्टम बनाई गई है। अब तक 9 लाख 45 हजार लोग सर्विलांस में है।