ALL Rajasthan
अस्पताल से सीधे श्मशान जाएगा ऋषि कपूर का शव, 20 लोग होंगे शामिल
April 30, 2020 • Rajkumar Gupta

बॉलिवुड के दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर इस दुनिया में नहीं रहे। 67 साल की उम्र में गुरुवार सुबह मुंबई में उनका निधन हो गया। वह करीब 2 साल से कैंसर से जूझ रहे थे। ऋषि कपूर का अंतिम संस्कार लॉकडाउन के नियमों को ध्यान में रखते हुए होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक डेड बॉडी अस्पताल से सीधे श्मशान ले जाई जाएगी।

षि कपूर का गुरुवार को मुंबई के के सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन हॉस्पिटल में निधन हो गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक उनका अंतिम संस्कार मुंबई के मरीन लाइंस चंदनवाड़ी श्मशान घाट में होगा। श्मशान घाट के बाहर और भीतर पुलिस के कड़े इंतजाम हैं। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखा जाएगा। उनकी शवयात्रा में नियम के मुताबिक 20 लोग शामिल होंगे। ऋषि कपूर के परिवार की तरफ से जारी हुए स्टेटमेंट में भी लोगों से कानून का पालन करने का आग्रह किया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक 2 बजे के बाद अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। बता दें कि इसी श्मशान घाट में शम्मी कपूर का भी अंतिम संस्कार हुआ था।

परिवार ने कहा करें कानून का पालन
हमारे प्रिय ऋषि कपूर 2 साल ल्यूकेमिया से संघर्ष के बाद आज सुबह 8.45 पर हॉस्पिटल में शांति के साथ दुनिया छोड़ गए। डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ ने बताया कि वह आखिरी वक्त तक उनका मनोरंजन करते रहे थे। वह दो महाद्वीपों में इलाज के दौरान हमेशा खुश और जिंदगी को पूरी तरह से जीने के लिए उत्साहित रहे। परिवार, दोस्त, खाना और फिल्में ही उनका फोकस रहता और जो भी उनसे इस दौरान मिलता वो हैरान रह जाता कि कैसे उन्होंने बीमारी को उनकी जीवंतता को नहीं छीनने दिया। वह अपने फैंस के प्यार के आभारी थे जो कि पूरी दुनिया से उन्हें मिल रहा था। उनके जाने पर वे सब समझेंगे कि वह चाहते थे कि उन्हें मुस्कुराहट के साथ याद किया जाए न कि आंसुओं के साथ। इस व्यक्तिगत क्षति के दौरान, हम यह भी समझते हैं कि दुनिया पर कठिन और मुसीबतभरा समय है। इकट्ठे होने और कहीं निकलने पर सख्ती है। हम उनके सभी फैंस और वेल-विशर्स और परिजनों के दोस्तों से दरख्वास्त करते हैं कि कानून का पालन करें।

यूएस में चला था इलाज
ऋषि कपूर को सितंबर 2018 में कैंसर डायग्नोस हुआ था। इसके बाद वह इलाज के लिए न्यू यॉर्क चले गए थे। उनके साथ उनकी पत्नी नीतू सिंह भी थीं। शुरुआत में उनके परिवार ने बीमारी छिपाने की कोशिश की थी। वहां लगभग 1 साल इलाज करवाने के बाद वह सितंबर 2019 में भारत लौटे थे। उनकी हालत में सुधार लग रहा था हालांकि बीच-बीच में उनकी तबीयत बिगड़ने की खबरें आती रही हैं।