ALL Rajasthan
भारत में कोरोना की सांसें फूली, जल्द ही बीमार से ज्यादा होगी ठीक होने वालों की संख्या!
June 2, 2020 • Rajkumar Gupta

नई दिल्ली
कोरोना महामारी) के खिलाफ देश में जंग छिड़ी हुई है। इस जानलेवा वायरस को मात देने के लिए हर राज्य ने बड़ी तैयारी कर रखी है। बेहद संक्रामक होने के कारण इस बीमारी की चपेट में आने वाले लोगों की तादाद तो हर रोज बढ़ रही है लेकिन अच्छी बात ये है कि कोविड-19 से देश में मौतों का आंकड़ा घटा है और इस बीमारी से ठीक होने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ी है। धीरे-धीरे ही सही पर भारत में कोरोना की सांसें फूल रही हैं और यही ट्रेंड रहा तो जल्द ही बीमार होने वालों से ज्यादा ठीक होने वालों की संख्या होगी।

मौतों की संख्या घटी
45 दिन पहले कोविड-19 से बीमार लोगों की मौतों का प्रतिशत 3.3% था जबकि अब यह घटकर 2.83 फीसदी पहुंच गया है। 18 मई को मृत्युदर 3.15% था जबकि 3 मई को यह 3.25 फीसदी था। भारत में एक दिन में सबसे ज्यादा मौतों सरकारी आंकड़े के अनुसार 230 हैं। देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 5,394 तक पहुंच चुका है और इससे बीमार लोगों की संख्या 1 लाख 90 हजार से ज्यादा है।

डिस्चार्ज होने वालों की संख्या बढ़ी
देश में अभी 93,322 एक्टिव केस हैं। 91,818 कोरोना से ठीक होकर घर जा चुके हैं। पिछले 24 घंटे में 4,835 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दी गई है। केंद्र सरकार के 8 मई के गाइडलाइंस के मुताबिक, हल्के और मध्यम कोरोना पीड़ित मरीजों में अगर लक्षण नहीं बढ़ते हैं तो उसे 10 दिन बाद तंदरुस्त घोषित कर दिया जा रहा। यानी आने वाले समय में कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या और तेजी से बढ़ेगी।

रिकवरी रेट भी सुधार
कोविड-19 से रिकवरी रेट भी सुधरा है और यह 48.19% तक पहुंच गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के डेटा के अनुसार, 18 मई को रिकवरी रेट 38.29% था जबकि 3 मई को यह 26.59 फीसदी रहा था। 15 अप्रैल को रिकवरी रेट महज 11.42% था। रिकवरी रेट से बढ़ने से संकेत मिल रहा है कि देश में इस बीमारी की जल्द पहचान और इलाज किया जा रहा है। अलग-अलग राज्यों में रिकवरी रेट जरूर भिन्न है लेकिन ओवरऑल तस्वीर उत्साहवर्धक है।

तो इसलिए घटी है मौतों की संख्या
स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में मौतों की लगातार घटी संख्या की मुख्य वजह इस बीमारी की समय पर पहचान और उसका तुरंत इलाज के कारण है।

अभी बढ़ेंगे केस पर..
अधिकारियों का कहना है कि आने वाले समय में राज्यों में कोरोना के केस बढ़ेंगे क्योंकि प्रवासी मजदूर अपने घर लौटे हैं और lockdown में ढील दी गई है। सरकार का लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा टेस्ट और मरीजों के जल्दी रिकवरी का है। 
महाराष्ट्र और दिल्ली पर टेंशन
महाराष्ट्र और दिल्ली समेत कई अन्य राज्यों में कोरोना मरीजों की संख्या टेंशन तो दे रही है लेकिन अभी स्थिति बुरी नहीं है।

दूसरे देशों से भारत की स्थिति बेहतर
जहां तक कोरोना वायरस के मौतों की संख्या की तुलना की बात है तो स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार वैश्विक स्तर पर कोविड-19 से मौतों का प्रतिशत 6.19 है। फ्रांस में सबसे ज्यादा 19.35% इसके बाद बेल्जियम 16.25 फीसदी, इटली 14.33 और ब्रिटेन 14.07% है।

देश में टेस्टिंग बढ़ी
केंद्र सरकार ने बताया कि देश में टेस्टिंग सुविधा बढ़ी है अब 676 लैबों में इसका टेस्ट किया जा रहा है। टेस्ट करने वाले लैबों में 472 सरकारी हैं जबकि 204 निजी हैं। मोटामोटी करीब 38 लाख 37 हजार 207 सैंपल टेस्ट किए गए हैं।