ALL Rajasthan
जब पीपीई किट हो गए थे फेल, फिर चीन के रैपिड किट पर क्यों किया गया भरोसा?
April 22, 2020 • Rajkumar Gupta

नई दिल्ली
हाल में ही चीन से आई पीपीई किट  पर सवाल उठे थे। चीन पर आरोप लग रहे थे उसने बेहद ही घटिया पीपीई किट भेजी है। सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया भर में उसके पीपीई किट की आलोचना हो रही है। बावजूद इन सब के भारत ने एक बार फिर चीन पर भरोसा किया और रैपिड टेस्टिंग किट मंगा लीं। अब पता चल रहा है कि चीन से आई रैपिड टेस्टिंग किट में भी गड़बड़ी है। ऐसे में सवाल ये उठ रहा है कि जिस चीन ने खराब पीपीई किट भेजी थीं, आखिर उसी चीन पर रैपिड टेस्टिंग किट के लिए भरोसा क्यों किया गया? और अगर इसके अलावा दूसरा कोई रास्ता नहीं था तो टेस्टिंग से पहले रैपिड टेस्टिंग किट की जांच क्यों नहीं की गई?

पहले राजस्थान ने की शिकायत?
रैपिड टेस्टिंग किट में गड़बड़ी की शिकायत सबसे पहले राजस्थान ने मंगलवार को की। इसके बाद से ही आईसीएमआर ने एंटीबॉडी रैपिड टेस्टिंग पर रोक दो दिन के लिए रोक लगा दी है। ये रोक सिर्फ राजस्थान में ही नहीं, बल्कि बाकी राज्यों में भी लगाई गई है।

जांच के बाद दोबारा हो सकेगी टेस्टिंग
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने मंगलवार को सभी राज्यों को कहा है कि वह दो दिन के लिए एंटीबॉडी रैपिड टेस्टिंग रोक दें। फिलहाल आईसीएमआर इस मामले में छानबीन कर रहा है, क्योंकि कई राज्यों ने शिकायत की है कि इसके नतीजों में 6 फीसदी से 71 फीसदी का उतार-चढ़ाव दिख रहा है। आईसीएमआर ने कहा है कि ये बिल्कुल भी स्वीकार योग्य नहीं है और हो सकता है कि किट को बदलने की जरूरत पड़े।

पूरी दुनिया में चीन ने भेजे हैं घटिया PPE किट
जिस चीन से कोरोना वायरस दुनियाभर में फैला, अब वही मेडिकल सप्लाई के नाम पर दुनिया के साथ मजाक कर रहा है। यूरोपीय देशों समेत कई जगहों पर चीन ने इतने घटिया पीपीई किट भेजे हैं, जिन्हें पहना ही नहीं जा सकता। सोशल मीडिया पर ऐसे तमाम वीडियो वायरल हो रहे हैं जिसमें चीन के भेजे पीपीई किट पहनते ही फट जा रहे हैं। मास्क के नाम पर भी चीन ने शर्मनाक हरकत की हैं। बीतें दिनों उसने अपने 'सदाबहार दोस्त' पाकिस्तान तक को अंडरवेअर से बने मास्क भेजे थे। अब भारत के साथ भी उसने ऐसा ही भद्दा मजाक किया है। हालांकि, किरकिरी के बाद चीन ने अपने यहां क्वॉलिटी चेक बढ़ाया है।

यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस: हेल्पलाइन, हॉस्पिटल... आपके काम की हर जानकारी यहां

किट गड़बड़ या इस्तेमाल का तरीका सही नहीं?
एंटीबॉडी रैपिड टेस्टिंग किट पर तो सवाल उठ ही रहे हैं, साथ ही इस बात पर भी सवाल उठ रहे हैं कि ये किट गड़बड़ है या इसे इस्तेमाल करने का तरीका सही नहीं है? टेस्टिंग से जुड़े एक सूत्र ने कहा कि ये किट्स गड़बड़ नहीं हैं, बल्कि इनके इस्तेमाल करने का तरीका सही नहीं है। सूत्र ने आशंका जताई है कि राज्यों की तरफ से टेस्टिंग में किसी तरह का शॉर्टकट अपनाया गया हो सकता है। खैर, जो भी हो, दो दिन की आईसीएमआर जांच के बाद सब कुछ साफ हो जाएगा।

पीपीई किट में एक चौथाई से ज्यादा घटिया
5 अप्रैल तक भारत में चीन से करीब 1.70 लाख PPE किट की सप्लाई आई थी, जिसमें से 50,000 किट क्वॉलिटी टेस्ट में खरे नहीं उतरे। सूत्र ने बताया, '30,000 और 10,000 PPE किट के दो छोटे कंसाइनमेंट्स भी टेस्ट में पास नहीं हो पाए।' इन उपकरणों की जांच डिफेंस रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की ग्वालियर स्थित लैबोरेटरी में हुई थी। 
भारत में हर रोज करीब 1 लाख पीपीई किट की जरूरत
सरकारी अधिकारियों का कहना है कि वे सिर्फ CE/FDA से मान्यता प्राप्त PPE ही खरीद रहे हैं। हालांकि सरकार को कई कंसाइनमेंट्स डोनेशन के तौर पर भी मिले हैं, जो क्वॉलिटी टेस्ट में सही नहीं पाए गए और ऐसे में उनका इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। भारत को रोजाना करीब 1 लाख PPE की जरूरत है। हालांकि, एक्सपोर्ट में गिरावट और वायरस के प्रकोप के चलते दुनियाभर में मांग बढ़ने के चलते इन किट्स की पर्याप्त मात्रा में सप्लाई काफी चुनौतीपूर्ण बन गई है।

ज्यादातर किट चीन, जापान और कोरिया से मंगाए जा रहे
भारत में अधिकतर किट्स चीन, जापान और कोरिया से आते हैं। हालांकि जापान और कोरिया के किट्स काफी महंगे हैं। दुनियाभर में तेजी से फैलते कोरोना वायरस के चलते यूरोप और अमेरिका ने अब एक्सपोर्ट के लिए इन किट्स को बनाना बंद कर दिया है। सूत्रों ने बताया कि किट की कमी को पूरा करने के लिए ट्रेडर्स के जरिए अतिरिक्त 10 लाख सूट्स का ऑर्डर दिया गया है। इन ट्रेडर में एक सिंगापुर की कंपनी भी शामिल है। हालांकि ये सभी सूट्स चीन से ही मंगाए जाने हैं।