ALL Rajasthan
लॉकडाउन की उल्टी गिनती शुरू, दूसरे फेज में ढील की आस
April 13, 2020 • Rajkumar Gupta

नई दिल्ली
भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus in india) का संक्रमण फैलने की रफ्तार कम होती नहीं दिख रही है, लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के डेविड नाबरो ने जो संकेत दिए हैं उससे साफ हो रहा है कि लॉकडाउन के अगले चरण (Lockdown 2.0) में कुछ ढील मिलेगी। भले ही अभी कोरोना वायरस की उल्टी गिनती शुरू ना हुई हो, लेकिन ये तय है कि लॉकडाउन की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। इसका संकेत खुद पीएम मोदी देश को संबोधित करने के दौरान दे चुके हैं। अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी उसी बात पर जोर दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेष दूत डेविड नाबरो ने कहा है कि दूसरे चरण में बीमारी के प्रसारण को रोकने की कोशिशों के साथ-साथ लोगों की आजीविका भी सुनिश्चित करनी होगी, ताकि लोगों को कम नुकसान हो।

जान भी और जहान भी
'जान है तो जहान है', ये तो सबने सुना ही है और लॉकडाउन की हालत में बहुत से लोग ऐसा बोलते दिख भी जाते हैं, लेकिन पीएम मोदी ने कहा था कि 'जान भी और जहान भी'। यानी उनका कहने का मतलब था कि जान तो जरूरी है, लेकिन जीने के लिए बाकी सारी चीजें भी जरूरी हैं। तब से ये बातें भी सामने आ रही हैं कि 14 अप्रैल को लॉकडाउन खत्म होने के बाद कई ऐसे काम शुरू होंगे, जिनसे आर्थिक विकास दर बढ़े।

WHO ने सुझाया 3L फॉर्मूला
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 3L फॉर्मूला सुझाया है, जो लाइफ, लाइवलीहुड और लिविंग हैं। यानी कि नाबरो ये कहना चाहते हैं कि सरकार को जीवन, आजीविका और जीने के तरीके पर भी ध्यान केंद्रित करने की जरूरत है। पीएम मोदी ने फॉर्मूला की बात नहीं की थी, लेकिन 'जान भी, जहान भी' की बात कहकर इशारा यही किया था।

'भविष्य में भी वायरस के लिए रहें तैयार'
साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि भविष्य में भी वायरस का सामना करने की आवश्यकता होगी, जब तक कि हम इसे मिटाने में हम सक्षम नहीं हो जाते। नाबरो ने आगे कहा- 'हम भारत के लोगों द्वारा की गई कार्रवाई का पूरा समर्थन करते हैं। हमारे पास डीटेल में जानकारी नहीं है लेकिन हम समझते हैं कि लॉकडाउन के जरिए कोरोना के प्रकोप को रोका जा सकता है।'

लॉकडाउन 2.0 होगा अगला चरण
वैसे लॉकडाउन 2.0 वह चरण होता है, जब अधिक जोखिम वाले इलाकों की पहचान की जाती है। नाबरो ने कहा है कि इस लॉकडाउन को पहले से अधिक सख्त बनाते हुए उस पर अधिक ध्यान केंद्रित करना होगा और आंकड़े जुटाने होंगे। हाल ही में पीएम मोदी की तमाम राज्यों के मुख्यमंत्रियों से हुई बात के बाद माना जा रहा है कि लॉकडाउन 14 अप्रैल के बाद भी बढ़ेगा, क्योंकि अधिकतर राज्य यही चाहते हैं। हालांकि, कम जोखिम वाले इलाकों या जहां संक्रमण नहीं है, वहां पर आर्थिक विकास को रफ्तार देने वाले काम शुरू होंगे। वहीं जहां अधिक जोखिम है, वहां सख्ती और बढ़ेगी। जैसे दिल्ली-एनसीआर में बहुत सारे संक्रमण जोन बना दिए गए हैं और बहुत अधिक सख्ती की जा रही है।