ALL Rajasthan
मुंबई: कोरोना को मात देने के लिए बीएमसी ने किया टेस्टिंग और डिस्चार्ज प्रोटोकॉल में बदलाव
May 18, 2020 • Rajkumar Gupta

मुंबई
महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। सबसे ज्यादा प्रभावित देश की आर्थिक राजधानी मुंबई है। संक्रमण रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने पहले ही 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर दी थी। इसके साथ में ठाकरे सरकार और बीएमसी ने मिलकर एक नई टेस्टींग स्ट्रैटजी बनाई है, जिसमें मरीजों को जल्दी डिस्चार्ज करने और प्राइवेट अस्पतालों को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए राजी करना प्रमुख रूप से शामिल है।
 बीएमसी अब भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा बताई गई टेस्टिंग पॉलिसी का पालन कर रहा है। इसका मतलब यह है कि सिमटोमैटिक पेशेंट, जिन्हें बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत होती है। केवल उनका टेस्ट किया जाएगा। इसके साथ ही कोरोना वायरस के मरीजों के करीबियों टेस्ट केवल तभी किया जाएगा यदि वे सिमटोमैटिक हैं, सभी गर्भवती महिलाएं भले ही वे एसिमटोमैटिक हैं, यदि उन पर संक्रमण का खतरा है तो उन्हें डायलिसिस पर रखकर उनका टेस्ट किया जा सकता है।

होम आइसोलेशन पूरा करने वालों का नहीं होगा टेस्ट
वहीं मरीज के संपर्क में आने वाले जिनकी कोमॉर्बिटी ज्यादा है उनका 5 से 14 दिनों के बीच एक बार टेस्ट किया जा सकता है और उन्हें क्वारंटीन किया जा सकता है। वहीं होम आइसोलेशन का समय पूरा कर चुके लोगों की टेस्टिंग की आवश्यकता नहीं है। इसके के साथ ही कम खतरे वाले मरीजों की भी डिस्चार्ज के समय टेस्ट करने की जरूरत नहीं है।

डोर-टू-डोर टेस्टिंग की तैयारी में बीएमसी
मरीजों को भी जल्दी छुट्टी दे दी जाएगी, अगर उनके में कोई गंभीर लक्षण नहीं दिखाई दे रहें हैं और बेड की आवश्यकता है तो उन्हे 10 दिनों के भीतर डिस्चार्ज किया जा सकता है। इसके अलावा बीएमसी बुखार के मामलों से पीड़ित लोगों की तलाश के लिए घरों में डोर-टू-डोर निगरानी करना भी चाह रही है ताकि उन्हें जल्दी से आइसोलेट किया जा सके।

माह के अंत तक 30 हजार हो जाएगी संक्रमितों की संख्या
शहर ने सात मंत्रियों को लॉकडाउन को लागू करने के लिए आईएएस अधिकारियों के साथ सात हॉटस्पॉट क्षेत्रों की निगरानी करने का काम सौंपा है। रविवार को, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों ने राज्य पुलिस को बदल दिया, जो लॉकडाउन की निगरानी करने की कोशिश कर रहे थे। अधिकारियों को उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक मुंबई में मामलों की संख्या 30,000 को छू जाएगी।

बेड की कमी होना भी बड़ी चुनौती
महत्वपूर्ण देखभाल रोगियों के लिए बिस्तरों की कमी एक बड़ी चुनौती है। शहर के कोविड केयर अस्पतालों में आइसोलेशन बेड की संख्या 3,690 है और यहां के अधिकारी प्रबंधन करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। कई रोगियों को गंभीर स्थिति में देखा गया है जो बिस्तरों की कमी के चलते जूझ रहे हैं। निजी अस्पतालों ने भी मिलकर लगभग 200 बिस्तरों का योगदान दिया है।