ALL Rajasthan
परंपरागत परिधान, मार्शल आर्ट्स और युद्ध कौशल....इसलिए जाने जाते हैं निहंग सिख
April 13, 2020 • Rajkumar Gupta

चंडीगढ़
पंजाब में लॉकडाउन की स्थितियों के बीच पटियाला की पुलिस टीम पर हुए हमले के बाद निहंग सिखों की जमात सुर्खियों में है। अक्सर सिखों के परंपरागत परिधान और हथियारों के साथ रहने वाले निहंग सिखों को उनके युद्ध कौशल के लिए जाना जाता है। निहंग शब्द फारसी भाषा का शब्द है, जिसका मूल अर्थ मगरमच्छ है। निहंग शब्द का अर्थ उन योद्धाओं से जुड़ता है जिन्हें कोई भी फर्ज की लड़ाई में ना रोक सके।
जानकार बताते हैं कि निहंग सिख आज भी आम जीवन से इतर संन्यास जैसी जीवनशैली का पालन करते हैं और हमेशा परंपरागत हथियारों के साथ खालसा पंथ के परिधानों में ही कही पर भी जाते हैं। निहंग सिखों को आम सिखों की अपेक्षा खालसा पंथ के लिए अधिक कट्टर माना जाता है। इसके अलावा इन्हें मानवता की रक्षा और गुरुओं की आज्ञा के पालन के लिए अंतिम सांस तक लड़ने वाली जमात माना जाता है। सिखों की इस जमात को उनके युद्ध कौशल, परंपरागत हथियार चलाने की कला और बेखौफ जज्बे के कारण ही निहंग योद्धाओं की संज्ञा दी जाती है।

गुरू हरगोबिंद सिंह ने मार्शल आर्ट्स को माना जरूरी

पंजाब विश्वविद्यालय में प्रफेसर अमरीक सिंह अहलूवालिया ने बताया कि कि मानवता की रक्षा के लिए सिखों के छठवें गुरू हरगोविंद सिंह ने सिखों के लिए मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग को जरूरी माना था और इसी लिए सिखों की एक विशेष परमात्म फौज भी तैयार की गई। बाद में सभी के लिए मीरी और पीरी दो विचार जरूरी माने गए। मीरी का अर्थ मार्शल आर्ट्स से था और पीरी बौद्धिक शक्तियों के लिए प्रयोग होने वाला शब्द है। प्रफेसर अहलूवालिया बताते हैं सच्चा निहंग उसे ही कहा जा सकता है जो कि मानवता के हित में बुरी शक्तियों से अंतिम सांस तक लड़े। 
पंजाब में गुरुद्वारे चलाते हैं निहंग सिख
वरिष्ठ वकील एचएस फुल्का बताते हैं कि निहंग सिख पंजाब में कई स्थानों पर अपने गुरुद्वारों का संचालन भी करते हैं। इन सिखों को मार्शल आर्ट और परंपरागत हथियार चलाने की इनकी कला के कारण भी जाना जाता है। हालांकि ये जरूर है कि रविवार को हुई घटना के बाद निहंग सिखों के ही कई बड़े सदस्यों ने हमलावरों से किसी भी प्रकार का संबंध ना होने की बात कही है। 
सीएम अमरिंदर ने की पटियाला की घटना की निंदा
पंजाब के पटियाला में रविवार को पुलिस की टीम के साथ हुई झड़प के बाद निहंग सिखों का नाम चर्चा में आया है। हालांकि निहंग सिख के कुछ बड़े जत्थेदारों ने इस बात का दावा भी किया है कि पंजाब में जिन लोगों ने पुलिस टीम पर हमला किया, वो निहंग सिखों की जमात का हिस्सा नहीं थे। पंजाब में सिखों ने पटियाला में हुई इस घटना की निंदा की है। खुद सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और वरिष्ठ वकील एच एस फुल्का जैसे सिख नेताओं ने भी इस घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए दोषियों पर कार्रवाई की बात कही है। पंजाब के पटियाला में पुलिस पर हमला करने वाले 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इन सब से पूछताछ की जा रही है।