ALL Rajasthan
प्लाज्मा थैरेपी करने वाला चौथा राज्य बना राजस्थान, लंबी हो सकती है कोरोना से लड़ाई: चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा
May 6, 2020 • Rajkumar Gupta

जयपुर. राजस्थान में कोरोना के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बुधवार को 82 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए। जिसके बाद कुल संक्रमितों का आंकड़ा 3240 पहुंच गया। वहीं मौतों की कुल संख्या 92 पहुंच गई। इस बीच चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा का एक बयान सामने आया जिसमें उन्होंने दावा किया कि राजस्थान देश का ऐसा चौथा राज्य बन गया है, जहां प्लाज्मा थैरेपी से काेरोना संक्रमितों का ट्रायल बेस पर उपचार किया गया है।

प्रदेश में जयपुर का सवाई मानसिंह अस्पताल ऐसा अस्पताल बन गया है, जहां दो लोगों का ट्रायल बेस पर प्लाज्मा थैरेपी से इलाज किया गया है। राजस्थान के पहले देश में केरल, मध्यप्रदेश और दिल्ली प्लाज्मा थैरेपी के जरिए कोरोना का इलाज कर पाने में समक्ष बने है। 

कोरोना कब खत्म होगा, यह कहना मुश्किल है, बचाव ही एकमात्र उपचार है

वहीं, मंत्री डाॅ. रघु शर्मा ने बताया कि यह कहना मुश्किल है कि कोरोना कब खत्म होगा लेकिन यह जरूर है कि यदि आमजन इस दौरान सरकार द्वारा दी जा रही गाइडलाइन का अनुसरण मसलन मास्क लगाएं, बार-बार हाथ धोते रहें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, कम से कम आए-जाए तो बीमारी को फैलने से रोका जरूर जा सकता है।

उन्होंने कहा कि ज्यादा दिनों तक लाॅकडाउन बढ़ना अर्थव्यवस्था की सेहत के लिए ठीक नहीं है। ऐसे में हर व्यक्ति को सहयोग करना होगा। उन्होंने कहा कि इस बीमारी में बचाव ही एकमात्र उपचार है। ऐसे में आमजन को इस दौरान बरती जाने वाली सावधानियों को ही आदत में शुमार करना होगा। उन्होंने आमजन से लाॅकडाउन-3 में मिली रियायतों में लापरवाही ना बरतने का भी आव्हान किया।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि लगभग 50 फीसदी मरीज हुए पाॅजीटिव से नेगेटिव
डाॅ. शर्मा ने बताया कि चिकित्सा विभाग और प्रदेश भर के लिए यह राहत की खबर है कि प्रदेश में लगभग 50 फीसद लोग पाॅजीटिव से नेगेटिव चिन्हित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि बुधवार 2 बजे तक प्रदेश में 3240 कोरोना पाॅजीटिव की संख्या थी, इनमें से 1596 लोग पाॅजीटिव से नेगेटिव हो गए हैं और 1131 को तो अस्पतालों से भी डिस्चार्ज कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि प्लाज्मा थैरेपी के जरिए उन्हीं मरीजों को इलाज किया जा सकता है, जो गंभीर रूप से संक्रमित हो, वेंटिलेटर पर हो या किडनी, हार्ट, डायबिटीज जैसी अन्य क्राॅनिकल बीमारियों से ग्रसित हो।

प्रतिदिन हो रही हैं 10,500 से ज्यादा जांचें
डाॅ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश में 10 हजार 500 टेस्ट प्रतिदिन किए जा रहे हैं। प्रतिदिन की जांच क्षमता में भी लगातार इजाफा किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 1 लाख 40 हजार से ज्यादा सैंपल अभी तक लिए जा चुके हैं। जितनी ज्यादा जांचें होंगी, कोरोना की असलियत का उतना ही जल्दी पता चलेगा और पर उतना ही जल्दी उनके उपचार, आइसोलशन, आईसीयू, क्वारेंटाइन करने जैसे फैसले तुरंत ले सकेंगे और संक्रमण के खतरे को कम कर सकेंगे।