ALL Rajasthan
राजस्थान में कोरोना की रफ्तार / पहले 78 दिनों में आए 5 हजार केस, अब 20 दिन में ही 10 हजार के पार पहुंचा आंकड़ा
June 6, 2020 • Rajkumar Gupta

कोरोना संक्रमण के बीच राज्य सरकार के निर्णय पर शनिवार को भी पर्यटकों के लिए स्मारक व संग्रहालय खोले गए। हवामहल में नजर आए पर्यटक 

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। राज्य में संक्रमितों का कुल आंकड़ा 10 हजार की संख्या पार करके 10,128 पर पहुंच गया है। चिंता की बात अब कोरोना की तेज रफ्तार है। शुरुआत में राज्य में संक्रमितों की संख्या 78 दिनों में 5000 तक पहुंची। वहीं, अगले 5000 तक पहुंचने में इसे सिर्फ 20 दिन का वक्त लगा। देखा जाए तो करीब चार गुना रफ्तार से अब कोरोना बढ़ रहा है। राज्य के सभी 33 जिलों में संक्रमण के केस सामने आ चुके हैं।

राजस्थान में 2 मार्च को कोरोना का पहला केस जयपुर में सामने आया था। 14 अप्रैल तक राज्य में संक्रमितों की संख्या 1 से 1000 तक पहुंच गई। यानी 42 दिनों में संक्रमितों की संख्या एक हजार तक पहुंची। इसके बाद कोरोना की स्पीड तेजी से बढ़ती जा रही है। इसके 10 दिन बाद 24 अप्रैल को कुल संक्रमितों की संख्या 2034 पहुंच गई। 

इसके 10 दिन बाद यानी 4 मई को फिर कुल संक्रमितों का आंकड़ा 3000 का आंकड़ा पार करके 3061 पर जा पहुंचा। वहीं, 8 दिन बाद 12 मई को कुल पॉजिटिव की संख्या 4126 पहुंच गई। अब सिर्फ 5 दिन बाद ही 17 मई को 5000 के पार हो गई। कुल 78 दिनों में पहले 5000 केस सामने आए थे। वहीं, अब सिर्फ 20 दिनों में 5000 नए केस सामने आए।

अब 2692 एक्टिव केस, 219 की संक्रमण से जान गई

कोरोना के डर के बीच राहत की खबर है कि 10128 में से रिकवर होने वाले लोगों की संख्या 7384 है। इनमें से 6855 को डिस्चार्ज भी किया जा चुका। वहीं, राज्य में अब केवल 2525 एक्टिव केस ही बचे हैं। वहीं, दूसरी तरफ राजस्थान में कोरोना से अब तक 219 लोगों की जान जा चुकी है। इनमें जयपुर में सबसे ज्यादा 106 (जिसमें चार यूपी से) की मौत हुई।

इसके अलावा, जोधपुर में 20, कोटा में 18, अजमेर में 9, नागौर, पाली और भरतपुर में 7-7, सीकर में 5, बीकानेर और चित्तौड़गढ़ में 4-4, सवाई माधोपुर, सिरोही और करौली में 3-3, बारां, बांसवाड़ा, जालौर, अलवर और भीलवाड़ा में 2-2, झुंझुनू, दौसा, राजसमंद, उदयपुर, चूरू, प्रतापगढ़ और टोंक में 1-1 की मौत हो चुकी है। वहीं दूसरे राज्य से आए 6 व्यक्ति की भी मौत हुई है।

जयपुर में लो फ्लोर-मिनी बसें 10 जून से दौड़ सकती हैं
अनलोक-1.0 में 8 जून के बाद लो फ्लोर और मिनी बसों का संचालन हो सकता है। सरकार से छूट के दो दिन बाद जेसीटीएसएल को व्यवस्था करने में लगेंगे। ऐसे में माना जा रहा है कि जयपुर में 10 जून से बसें संचालित हो सकती है। सूत्रों का कहना है कि बसें परकोटा क्षेत्र में नहीं चलेंगी। बसों में सीट टू सीट यात्री बैठ सकेंगे। थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। यात्री को स्वयं को सैनिटाइजर का उपयोग करना होगा। जेसीटीएलएस के एमडी नरेंद्र गुप्ता का कहना है कि सरकार ने रोडवेज बसों को अनुमति दे दी है तो जल्द ही लो फ्लोर बसों को मिलेगी। संभवत: 8 जून के बाद सरकार बसें चलाने की अनुमति दे सकती है।
 

जयपुर - 2163 हुआ कोरोना पॉजिटिव केसों का मामला; आज नौ नए केस सामने आए, अब तक 102 मौतें
जयपुर. शहर में शनिवार को नौ नए कोरोना पॉजिटिव केस सामने आए। इसके बाद संक्रमितों का आंकड़ा 2163 पहुंच गया। राजधानी जयपुर में अब तक कोरोना वायरस से संक्रमित हुए 102 मरीजों की मौत हो चुकी है। हालांकि, कुल 2163 में से 1765 मरीज रिकवर हो गए है। जिनमें 1584 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। ऐसे में अब महज 294 एक्टिव केस बचे है। जिनका अस्पताल में उपचार जारी है। यहां अन्य राज्यों से आए 78 प्रवासी राजस्थानी संक्रमित मिल चुके है। राजधानी में अब तक 75611 सैंपल  लिए जा चुके है। 

शनिवार को चिकित्सा विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार जयपुर के चांदपोल बाजार स्थित बाबा हरिश्चंद्र मार्ग, हीरापुरा, केशव विद्यापीठ जामडोली,रामगंज बाजार, सेंट्रल जेल घाटगेट से नए केस सामने आए। वहीं, एसएमएस में कोरोना जांचें प्रभावित होने की वजह से लगातार तीसरे दिन पॉजिटिव आंकड़ा कम रहा है। इससे पहले गुरुवार को 12 और शुक्रवार को 16 केस आए थे।

मेडिकल कॉलेज की ओर से गुरुवार को जारी की गई क्वॉरेंटाइन गाइडलाइन के विरोध में अधिकांश फैकेल्टी- रेजिडेंट और अन्य टेक्निकल स्टाफ का कार्य बहिष्कार जारी रहा। ऐसे में शुक्रवार को भी कोरोना जांच कार्य प्रभावित रहा। हालांकि देर शाम तक प्रशासनिक अधिकारी फैकेल्टी को समझाने में जुटे रहे। वहीं राजस्थान यूनिवर्सिटी में भी पहला केस सामने आया है। 

वहीं, शनिवार को भी पर्यटकों के लिए जयपुर शहर में संग्रहालय और स्मारकों को खोला गया। यहां आमेर महल, सरगासूली, हवामहल, जंतर मंतर खुले। राज्य सरकार के निर्णय पर 1 जून से प्रदेशभर में इन संग्रहालयों व स्मारकाें को खोलने का निर्णय किया गया था। लेकिन इन पर्यटन स्थलों पर आमदिनों की तरह पर्यटकों की आवाजाही नहीं रही। हवामहल अधीक्षक सरोज चंचलानी ने बताया कि यहां आने वाले पर्यटकों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सुरक्षा के इंतजाम किए गए है।