ALL Rajasthan
सरकार की अपील, लॉकडाउन में छोड़ें पान मसाला और सिगरेट
May 10, 2020 • Rajkumar Gupta

नई दिल्ली
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए गए देशव्यापी लॉकडाउन से एक तरफ लोग परेशाना हैं तो दूसरी तरफ कई बुरी आदतों से बचने के लिए यह एक मौका भी है। लॉकडाउन के समय कई राज्यों ने थूकने पर जुर्माना लगाया है। वहीं पान-मसाला पर रोक भी लगाई गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से अपील की है कि इस मौके का फायदा उठाएं और पान मसाला की आदत छोड़ दें। मंत्रालय ने इसके लिए उपाय भी बताए हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने AIIMS दिल्ली की तरफ से एक विडियो जारी किया है। इसमें AIIMS के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया तंबाकू और सिगरेट के दुष्प्रभावों के बारे में भी बताते हैं। उन्होंने कहा, 'पान मसाला और तंबाकू न केवल कैंसर जैसे रोग को जन्म देता है बल्कि हार्ट की बीमारियां भी पैदा करता है। इससे जानलेवा रोगों का खतरा बढ़ जाता है और जल्दी ही फेफड़े डैमेज हो जाते हैं। ऐसे में इस लॉकडाउन को एक मौके की तरह लेना चाहिए और अपने परिवार का खयाल रखने के साथ खुद को भी ऐसी आदतों से मुक्ति दिलानी चाहिए।'

शुरू में हो सकती हैं ये परेशानियां
विडियो में बताया गया है कि तंबाकू, सिगरेट या पान-मसाला छोड़ने में शुरू में कुछ परेशानियां पेश आ सकती हैं। इसमें चिड़चिड़ापन, नींद आना, तंबाकू लेने की तलब उठना और किसी काम में मन न लगना आम है। लेकिन कुछ समय बाद ये परेशानियां कम होने लगेंगी और दृढ़ संकल्प से इस नशे से मुक्ति पाई जा सकती है।

तंबाकू, सिगरेट छोड़ने के लिए क्या करें?
स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने आधिकरिक ट्विटर हैंडल पर यह विडियो ट्वीट किया है। इसमें तंबाकू और पानमसाला छोड़ने के उपाय भी बताए गए हैं।
खुद को व्यस्त रखें- बताया गया है कि इस नशे और तलब से ध्यान हटाने के लिए खुद को किसी काम में व्यस्त रखें। परिवार के साथ समय बिताया जा सकता है। गार्डनिंग करने या किताब पढ़ने में भी बिजी रहा जा सकता है।

नीकोटीन रिप्लैसमेंट थरपी- विडियो में बताया गया है कि तंबाकू, सिगरेट छोड़ने के लिए निकोटीन गम या निकोटीन पैच का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे खाने से तंबाकू तलब कम हो जाती है। इसके अलावा कैंडी, टॉफी, मिश्री या इलायची को चबाया जा सकता है। इससे भी तंबाकू या सिगरेट लेने की इच्छा कम हो जाती है। डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि लॉकडाउन के इस मौके का फायदा उठाकर स्वस्थ जीवन जिया जा सकता है।