ALL Rajasthan
उपचुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया की एंट्री से बीजेपी को मिलेगी बड़ी बढ़त'
June 4, 2020 • Rajkumar Gupta

भोपाल
एमपी सीएम शिवराज सिंह) चौहान ने कहा है कि बीजेपी अगामी उपचुनाव में सभी 24 सीटें जीतेंगी, ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में बीजेपी उपचुनाव में अच्छा प्रदर्शन करेगी, खासकर ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में और मजबूती मिलेगी।

शिवराज ने हमारे सहयोगी अखबार इकनॉमिक टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा कि 22 सीटें विधायकों के इस्तीफे के कारण खाली हैं, ये विधायक भ्रष्ट कमलनाथ की सरकार के शिकार थे। लोगों ने देखा है कि कैसे इन मंत्रियों और विधायकों के साथ अनुचित और अपमानजनक व्यवहार किया गया, जिसकी वजह से इन लोगों ने पद छोड़ दिया। राज्य के लोग जल्द ही जनता के फैसले का गवाह बनेंगे। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बीजेपी को सत्ता में रहने के लिए 24 में से कम से कम 9 सीटें जीतने की जरूरत है।

शिवराज ने कहा कि 24 में से उपचुनाव की ज्यादातर सीटें ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में हैं। उन्होंने कहा कि बीजेपी के पास नरेंद्र सिंह तोमर जैसे नेताओं का ठोस आधार पहले से ही है और हाल ही में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया से पार्टी और मजबूत होगी। वह एक उर्जावान, समर्पित और निर्णायक नेता हैं। 
पॉपुलर नेता हैं सिंधिया
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर-चंबल संभाग के साथ ही एमपी के एक पॉपुलर नेता हैं। उनका और उनके परिवार का ग्वालियर-चंबल संभाग में एक प्रभावी नेतृत्व का रेकॉर्ड है। उपचुनाव में सिंधिया की उपस्थिति काफी महत्वपूर्ण है और यह निश्चित रूप से आगामी उपचुनामों में हमारी मदद करेगा और हम चंबल में अच्छा प्रदर्शन करेंगे।

फ्री हैं कमलनाथ
पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा है कि उपचुनाव को लेकर बीजेपी काफी नर्वस है और वह उपचुनाव के बाद फिर से सीएम बनेंगे। इस पर जवाब देते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि कमलनाथ फ्री आदमी हैं। यह उनके अपने विचार और सपने हो सकते हैं, लेकिन वास्तविकता अलग है।
शिवराज ने कहा कि कमलनाथ को एहसास होना चाहिए कि वह मध्यप्रदेश के लोगों से किए गए वादों को पूरा करने में विफल रहे हैं। शुरू से उनके लोग उन्हें मिसगाइड करते रहे हैं, यह उनके सलाहकारों के कारण से हो सकता है। उनकी विफलता की वजह से कांग्रेस निराश है, इसलिए वह ऐसी बातें कर रहे हैं। ऐसे में आसानी से समझा जा सकता है कि उपचुनाव को लेकर कौन घबराया हुआ है। सत्ता जाने का दर्द उनके लिए असहनीय है।

सिंधिया ने लड़ी है लंबी लड़ाई
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अन्याय और भ्रष्टाचार के खिलाफ एक लंबी लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कमलनाथ की सरकार में जब जन कल्याण पर सवाल उठाए तो सिंधिया को उचित जवाब नहीं दिया गया। सीएम ने यह भी आरोप लगाया कि प्रदेश में जब कोरोना संक्रमण बढ़ रहा था, तब तत्कालीन सीएम कमलनाथ सीएए के विरोध में घटनाओं का समर्थन करने में व्यस्त थे।

कांग्रेस में महसूस हो रहा था घुटन
सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश की सियासत में सभी परिणाम कांग्रेस के आंतरिक टकराव का था। सिंधिया के साथ कांग्रेस छोड़ने वाले लोगों को पार्टी में घुटन हो रहा था। कांग्रेस पर हमला करते हुए शिवराज ने कहा कि जो लोग घर का प्रबंध नहीं कर सकते हैं, वे हमसे पूछताछ कर रहे हैं। अगर कांग्रेस अपने आंतरिक झगड़ों को दूर नहीं कर सकती, तो वह एमपी की समस्याओं को कैसे सुलझाएंगे।

कैबिनेट विस्तार पर दिया ये जवाब
कांग्रेस पूछ रही है कि अभी तक कैबिनेट का पूर्ण विस्तार क्यों नहीं हुआ है, क्या बागी कांग्रेस विधायकों और बीजेपी के लोगों में टशन है। शिवराज ने जवाब देते हुए कहा कि बीजेपी एक लोकतांत्रिक पार्टी है। ऐसी स्थिति में विवाद का सवाल ही नहीं उठता है। हमने पहले ही 5 सदस्यीय कैबिनेट का गठन किया है। एक बार कोरोना संकट से उबरने के बाद हम जल्द कैबिनेट का विस्तार करेंगे।